Jayvantbhai Hirjibhai Vyas

Born

June 25th, 1936

Passed Away

January 22nd, 1997

Popularly Known as

Bhai

Native

Rajkot

Occupation

IPS

Spouse

Jyoti ben

Religion

Hindu

Caste

-

ईस्वीसन वो अस्सी और अक्तुबर का मास,
आदमी को आदमी के खून की रहेती थी प्यास,
आंधीया थी गोधरे में हर कोई था बदहवास,
हर कोई नंगा बना था धर्म का पहेने लिबास
छट गई मायूसियां और खिल उठे चेहरे उदास
आ गये दिल की तसल्ली के लिये जयवंत व्यास

भाई से बीछ्डे हुए भाई मिलाये आपने
भेद हिन्दु और मुस्लमा के मिटाए आपने
फूल गुलशन में महोब्बत के खिलाये आपने
अमन और सच्चाई के रस्ते बताये आपने
आज भी है हर तरफ उन नेक कामो की सुवास
हम भूला सकते नही हरगिज तुम्हे जयवंत व्यास

ईद, होली या दिवाली गणपति का जश्न हो
तुम जहां हो हिन्दु मुस्लिम दोनो ही महेमान हो
जैसे ईन्सां है पूलिस, शहेरी भी युं इन्सान हो
खुश पूलिस है आपसे फिर किस तरह तूफान हो
दोस्त जनता की है, है पूलिस जो आसपास
हम भूला सकते नहीं हरगिज तुम्हे जयवंत व्यास

जुर्म की थी बोलबाला सन ईकासी में यहाँ
ये जिले में डाके छियालीस और थे खुं के निशां
सन बयासी में हुए तुम कुछ इस तरह से महेरबाँ
रहे गये दो चार डाके उनका हो क्युं कर बयाँ
हट गये पंचमहाल से हर एक खौफो हिरास
हम भूला सकते नहीं हरगिज तुम्हे जयवंत व्यास

देशभर में आपकी शहोरत की युं फैली खबर
राष्ट्रपति की फिर हुई आप पर मीठी नजर
दे दिया पूलिस एवार्ड और की अच्छी कदर
ये तुम्हारी ही नहीं इज्जत हमारी है शरर
ये दुवा महेमूद की फैले तरक्की की सुवास
हम भूला सकते नहीं हरगिज तुम्हे जयवंत व्यास

By the people of Godhara, Gujarat

Shradhanjali By

Vivek Vyas & Family

Family Tree of Jayvantbhai Hirjibhai Vyas

Parents
Samrathben
Hirjibhai
Spouse
Jyoti ben
Children
Bindu
Chetan
Grand Children
Pooja
Meera
Aum
Veera Vyas
Siblings
Vasantbhai
Chandubhai
Vinodbhai
Ashvinbhai
Kiritbhai
Dilipbhai
Shardaben
Savitaben
Sudhaben
Son/Daughter-in-law
Atul
Aparna
Father & Mother-in-law
Valemati Daiya
Ranchhoddas Daiya
Brother/Sister-in-law
Harikishan Daiya
Jayaben Katira
Thakorbhai Daiya
Kanubhai Daiya
Madhuriben Katira
Bharatbhai Daiya

Videos of Jayvantbhai Hirjibhai Vyas

Post a tribute & share memories

Upload

(200x200)*

Fond Memories & Remembrance

Dr Suresh Kubavat

1 month ago
અમર આત્માને ભાવ વંદન !!

Dr.Suresh Kubavat

7 months ago

Astonishing tribute to a wonderful person.

Never knew this facet.

Chetan Vyas

7 months ago

Actually, he still continues to make his presence felt through the way we think and deal with situations. The giant of "simplicity personified" lives on through actions and thoughts of all the lives he touched - which were many.

 

May we be part, if not all, of what he was. 

Jai Hind. 

Manish Gandhi

1 year ago

may the soul rest in peace

Vivek

3 years ago
We always try to walk the path you have shown us. you will always be an inspiration to us.

Post Condolences